16 अगस्त 2013

हम पुरनिया !!

धवल-स्फटिक श्रृंगार केश का 
ढीला-ढाला वस्त्र देह का ;
मद्धिम होती तपिश प्रेम की 
स्वर-फुहार अतिरिक्त नेह की ;
शांत-स्निग्ध स्पर्श तुम्हारा 
सदा रहें दो-दृग जल-धारा ;
मन के वृन्दावन में महा-रास 
अब नहीं, रे धनिया ! 
हम पुरनिया !!

हम सनातन , पोंगापंथी ,
चिर रहे बंधे , कुंठा - ग्रंथि ;
हर बात पै शंका , हर पथ भ्रांति, 
विस्मृत-स्मृतियों सी विश्रांति ;
नहीं कभी की कोई धींगामुश्ती
अवध की शाम, न बनारस की मस्ती ;
उम्र अब मार रही हमको 
तू न मार कोहनिया !
हम पुरनिया !!






2 टिप्‍पणियां:

  1. वृद्धों की मनोव्यथा का सजीव चित्रण किया है..
    अति सुन्दर कोमल भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...