1 फ़रवरी 2012

खोखला

खेत की मेड़‌‍‌
बहुत बड़ा 
बरगद का पेड़ 
खड़ा है 
ड़ा  है 
अंदर से पोला है  
खोखला है  
कोई आंधी नहीं 
गाँधी नहीं 
हवा का एक हल्का सा झोंका 
गिरा देगा 
हरा देगा 
कोई कुल्हाड़ी मत लाना .
न हँसी असली 
न शब्द न कथनी न करनी 
बहत्तर छेद चलनी  
मिट्टी की  गाड़ी 
मृच्छकटिकम
चलती गड़ड़
हाथों में भरे 
विषभरे अक्षर 
मन से 
मस्तिष्क से 
रक्त कलम से 
गलियों से 
खेतों से
सड़कों से 
गुजरते रहे 
आते रहे जाते रहे 
अकेले अकेले चले 
घर जले 
बस्ती जली
कस्बे जले 
जहाँ जहाँ से गुज़रे 
काफिले
चेहरे  , चेहरे , तमाम चेहरे 
लूले लंगड़े अंधे बहरे 
हाथ , हथेली , मुट्ठी बाँधे
दाँत भींचे , फूले नथुने
रक्ताभ आँखे 
जुलूस  बने , जलसा बने , बहस -मुबाहिसा हुए 
अर्थ की अर्थी उठाए 
सफहा - सफहा 
बिखरे बिखरे हरफ 
एक तरफा , एक तरफ 
गूंजने लगे 
गाने लगे 
चिल्लाने लगे 
पाँवों के तलुए 
चाटने लगे 
सूँघते हुए 
गलियाँ-गलियाँ 
घूमते
कटखौने हुए , काटने लगे 
गालियाँ - गालियाँ 
और सब तटस्थ हैं 
अर्थ सब बौने हुए 
सुविधा के बिछौने हुए 
धूप से बचने के लिए 
आँखों को ढाँप लिया 
स्वार्थों को भाँप लिया 
दाम औने-पौने हुए 
खेत की  मेड़‌‍‌  पर 
सूखे हुए कुँए के पास 
धराशायी बरगद 
भीष्म सा लहुलुहान 
और विजयी मुद्रा में पास ही खड़ा है 
एक बिजुका शिखंडी 
बजउठी रणभेरी
अट्टहास कर , नरमुण्ड बांधकर 
नृत्यप्रवृत कापालिका , चंडी  
हो गया नाटक का अंत 
पर्दा  धीरे -धीरे गिरता है 
मूक - दर्शक  अपनी -अपनी जगह खड़े  , 
बजायेंगे , करतल 
तालियाँ - तालियाँ .

17 टिप्‍पणियां:

  1. लोकतंत्र का यह नाटक अभी जारी है ...
    सटीक !

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. यशवंत जी , पसंद आया , तो शुक्रिया बहुत बहुत, और लोगों तक पहुंचाएंगे इसका भी .

      हटाएं
  3. कल 03/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओह हाँ। युग बीत जाता है। हम खड़े रह जाते हैं। सिर खुजाते, तालियां बजाते।

    हंसते हंसते आखों में पानी आ जाता है! :-(

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद गुरुवर , आज संगम से आशीर्वाद आ गया , बहुत खुशी हुई .

      हटाएं
  5. बेहतरीन और अदभुत अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना...
    खेत की मेड़‌‍‌ पर
    सूखे हुए कुँए के पास
    धराशायी बरगद
    भीष्म सा लहुलुहान
    और विजयी मुद्रा में पास ही खड़ा है
    एक बिजुका शिखंडी

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सार्थक व सटीक अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सटीक और सार्थक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Jhanjhod dene wali panktiyaa sir..
    behtareen rachna..
    ek ajab si madhoshi si chha gai thi padhte padhte..
    jab khatm hui to dil chaaha ki abhi aur ho.. :)


    kabhi waqt mile to mer blog par bhi aaiyega..
    palchhin-aditya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज़रूर आयेंगे . प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद

      हटाएं
  10. बेजोड़ भावाभिव्यक्ति...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नीरज जी आपका आशीर्वाद मिला , बहुत अच्छा लगा . आपके यहाँ ग़ज़ल की किताबों की समीक्षा पढता रहता हूँ . और जैसे खज़ाना जमा है वहाँ

      हटाएं
  11. धीरे-धीरे दम ही निकाल लिया है,
    शब्दों ने अर्थ को उछाल दिया है !

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...