9 मई 2011

बहुत बात हुई

एक  अजनबी से मुलाकात हुई
बहुत बात हुई .
देश दुनिया की 
घर द्वार की 
ख़बर अखब़ार की 
बूढ़े लाचार की 
अपंग की लाठी की 
पहलवान की काठी की 
बन्नो की भाभी की 
बब्बन की शादी की 
बातों ही बातों में 
आधी रात हुई 
बहुत बात हुई .
घटते बाघों पर 
विलुप्त रागों पर 
राजनैतिक परिवेश पर 
चिंदी गणवेश पर 
बढ़ती चर्बी पर 
दुनिया की गर्मी पर
मिल के सेंकी रोटियाँ 
चिकनी चुपड़ी बतियाँ
जबान बदजात हुई 
बहुत बात हुई .
अपने अखाड़ों  को 
राजनैतिक बाड़ों को 
धारणाओं, पक्षपातों को 
कपट , ग्रंथियाँ, गाठों को 
कितना भरा , कितना पाटा
अटका रहा सन्नाटा 
मन कहाँ निष्पक्ष था 
पक्ष प्रतिपक्ष था 
अन्तःघात हुई 
बहुत बात हुई .
अजनबी शहर में रहता हूँ 
परदेशी हूँ खलता हूँ 
भाषा बोली अपनाकर 
उनके जैसा खाकर 
दिल फिर भी डरता है 
मन में कुछ पलता है 
प्रतिकूल परिवेश में कौन फला है 
मौसम जब भी बदला है 
दुर्घटना अकस्मात हुई 
बहुत बात हुई . 

14 टिप्‍पणियां:

  1. बातों बातों में सब कुछ समेट लिया ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी क्या बात है
    बहुत बात हुई और एक अजनवी से मुलाकात हुई। सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 10 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बात करती हुई निकलती जाती है कविता .............!!
    बहुत सुंदर .

    उत्तर देंहटाएं
  5. trivedi ji , kaya bat hai ,baton hi bato men sama gayi sari baten . kitani sahajata se baten ho gayi varna ....sadyan bit gayin baton men ...
    pahali bar aapko padha sunder laga . badhayi ji .

    उत्तर देंहटाएं
  6. बातों ही बातों में कितना कुछ कह दिया आपने ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितना भरा , कितना पाटा
    अटका रहा सन्नाटा
    मन कहाँ निष्पक्ष था
    पक्ष प्रतिपक्ष था
    अन्तःघात हुई
    बहुत बात हुई .
    अजनबी शहर में रहता हूँ
    परदेशी हूँ खलता हूँ
    भाषा बोली अपनाकर
    उनके जैसा खाकर
    दिल फिर भी डरता bahut sunder dil ko chulene waali rachanaa.badhaai aapko

    उत्तर देंहटाएं
  8. परिचित से बहुत खुलकर नहीं भी हो , अजनबी से कितना कुछ कह जाते हैं हम ! सब का दिल से आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बात ही बात में बहुत बात हुई !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बातों बातों में पूरी दुनिया सिमट आई है.... सुद्नर...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...