9 मई 2011

रिमोट कंट्रोल

जब  जगह  थी  ज्यादा 
लोग कम थे 
आपस में बतियाते 
सुख दुःख साझे 
घर की छत से छत लगी थी 
आँगन चबूतरा रोशनदान अहाता 
मिलने की हज़ार जगह बनी थी 
कोई किसी भी चारपाई सो जाता 
तब भी भरी पूरी नींद होती  
जब आसपास कितना कुछ हो जाता 
पाँव लम्बा फैलाता
पसरा सन्नाटा .
दूर बजती बांसुरी की सुन पड़ती तान 
आती हवाओं पर सवार लहरियाँ
भजनों में राधा के सावरियां
कंठों में वृन्दावन गान .
अल्लसुबह उठ जाता 
भिनसारे सूरज से बतियाता  
कार्तिक माघ नहाता 
मुंह अंधियारे जाता
सरसों में नहाया बदन 
बूंदों में झिलमिलाता .
कच्चे आम की केरी 
गन्ने की आँक से दातों की रणभेरी 
बाल्टी भर भींगे आमों की ढेरी 
चूसते  चूसाते  दोपहरी 
कुरवा भर झागवाला मक्खन मलाई 
गुलाबी रेवड़ी गरम नान -खटाई.
समय अंतराल हुआ 
शहर विकराल हुआ 
कबूतरबाज कबूतर खानों में रहते हैं 
पड़ोसी की नामपट्टिका पढ़ते हैं
गौधूलीबेला क्रॉसिंग पै लाल बत्ती चेहरा है 
भीड़ है अकेला है 
गौरेया नर्सरी किताबों में फुदकती है 
जिन्दगी यूँ ही रूप बदलती है .
पैकेट से निकलती है बनी बनाई रसोई 
भुने हुए भुट्टों की कॉर्न सी साफगोई.
देर से उठता हूँ 
कोयल की कूक नहीं  
शहर अब मूक नहीं 
अलार्म बजाता है 
सपना डर जाता है .
सूरज की धूप नहीं 
एयरकंडीशंड कमरों में 
एलईडी रोशनी है 
दुनिया बयालीस ईंच की एलसीडी में सिमटी है 
जीवन एक चलती फिरती धारावाहिक में तब्दील 
झुण्ड के झुण्ड आकाश अबाबील 
संपर्कों की क्षीण डोर 
सब कुछ रिमोट कंट्रोल . 

7 टिप्‍पणियां:

  1. कविता मे माध्यम से वक्त का फ़र्क दिखला दिया…………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अतुल जी आपने जिंदगी के बदलते परिवेश को सुंदर शब्दों के द्वारा प्रस्तुत किया है ....................धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर कविता -
    एक एक शब्द अपने अनुरूप समय की सुंदर व्याख्या करता हुआ -
    पुराने समय के गाँव का और आज के शहर के जीवन का अंतर दर्शाती हुई अभिव्यक्ति |

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोयल की कूक नहीं
    शहर अब मूक नहीं
    अलार्म बजाता है
    सपना डर जाता है .
    सूरज की धूप नहीं
    एयरकंडीशंड कमरों में
    एलईडी रोशनी है
    ...sab aadhunikta mein kho sa gaya hai..
    bahut badiya rachna...

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...