22 जून 2011

बारिशों के मौसम में

हमारे शहर का हाल भीगा भीगा है ,
गीला गीला उसकी आँखों में तारा .

तुम्हारे ख़त के अक्षर धुंधले धुंधले 
मोती का पानी अब उतरा उतरा .

सूरज का नूर छुपा है बादल में, 
अब झांके तब झांके काला-गोरा .

बूढ़े बरगद के नीचे सिमटा जंगल ,
प्लावन में दुबका सहमा हर चेहरा.


कभी गर्मी की लू सताती है उसको,
कभी बारिश में वो बिफरा बिखरा .

घुटने घुटने पानी तेरी गलियों में
कागज  की कश्ती सहरा सहरा .


यादों के बादल जब मन में घुमड़े  ,
गीली लकड़ी , धुआं गहरा गहरा . 


लम्बी भीगी रातों में ऐसा होता है ,
गर्म लिहाफों में रिश्ता ठहरा ठहरा.


जब जवाँ दरिया हो उफान पर ,
टूट जाता हर बांध कतरा-कतरा .



6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है.. बहुत बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. yaadon ke badal aur gili lakdi aur dhuaan ... gahra bimb upasthit kiya hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. नई तरह की ग़ज़ल ,नए अंदाज़ में पढ़ाने के लिए धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut Khoob likha aur kha! Well said Trivedi ji. Yuhi likhte rahiye.
    Gladly following your blog. You may like to follow mine.
    Here's my popular post & video http://www.youtube.com/watch?v=B1BV8IoLeqM

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...