23 जून 2011

सपनो को उग आयें पर

ख़त का जवाब ले आएगा हरकारा
चाहो मीत पुराना जब टूटे एक तारा .


निस दिन चहुँ ओर कोयल कूकेगी
भूला भटका दिख जाये  बादल बंजारा.


पत्ता पत्ता जलतरंग जब झूमे सावन
अम्बर नाचे हाथों में ले इकतारा.


हम नदी में दीप  जलाने  आ गए,
तुम्हारे गाँव जायेगी यह जलधारा .


अक्सर चांदनी रातों में छत पर ,
ढाई अक्षर अपने ढूंढे शहर सारा .

उस कुँए में सिक्का डाल के चाहा ,
सपनो को उग आयें पर , यारा !!




2 टिप्‍पणियां:

  1. अक्सर चाँदनी रात में ... बहुत ही सही एहसासों को उभारा है

    उत्तर देंहटाएं
  2. भीनी भीनी प्रेम की फुहार उड़ रही हो जैसे ... अच्छी पंक्तियाँ हैं अतुल जी ...

    उत्तर देंहटाएं

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...