12 नवंबर 2010

थोड़ा

मुझसे कहते हैं वो  करो गरूर थोड़ा,
सीखना है आपको झुकना हूजुर थोड़ा |
किसी अंधे से टकराए तो , मान लो ,
सिखाने आयेंगे लोग उसे शऊर थोड़ा |
शेर से मेमने ने कुछ यूँ कहा होगा ,
मुझे ख़ुशी होगी जो रहें दूर थोड़ा |
उसके गुस्से  का  कहर  ना टूटे ,
बस वो  नाराज हो जरूर थोड़ा |  
एक परिंदा परकटा उड़ान को तैयार,
पर पालतू कबूतर आदत से मजबूर थोड़ा | 

1 टिप्पणी:

आपके समय के लिए धन्यवाद !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...